अडवानी साठिया गए

   

अडवानी साठिया गए हैं 

जब बी जे पी ने बहुमत से मोदी को मान लिया है तो अडवानी बच्चे की तरह किस बात की जिद कर रहे है .

क्या अपने को पार्टी से ऊपर मानते हैं , 

क्या पार्टी को धमकाने की ताकत है ?

जो आदमी नाम का इतना भूखा है वह देश के लिए क्या कर पायेगा 

और यदि पी एम् न बन पाए तो अच्छा है देश को , नुक्सान पहुचाने की बजाये या तो  

१. अपनी निकाली हुई बहु के पास लन्दन चले जाये , या 

२ अनजाने काम कर रहे अपने लड़के के पास अमेरिका चले जाएँ , 

३ या पकिस्तान जा कर जिन्ना की समाधी पर समाधि लगायें 


2 comments:

तेजवानी गिरधर said...

घटिया टिप्पणी

तेजवानी गिरधर said...

घटिया टिप्पणी