मानो न मानो पर सच्चाई तो यही है की मुसलमान किसी काफिर का दोस्त नहीं हो सकता Believe it or not, but the truth is that Muslims cannot be friends of any Kafir

I am feeling very bad in writing the fact below which is taken from a watsapp forwarded to me.

i hope somebody will tell me that this is wrong which is written here.

Image result for islam and kafir

संछेप में...इस्लाम के प्रति महापुरुषों के विचार।।

 1. स्वामी विवेकानंद

 ऎसा कोई अन्य मजहब नहीं जिसने इतना अधिक रक्तपात किया हो और अन्य के लिए इतना क्रूर हो । इनके अनुसार जो कुरान को नहीं मानता कत्ल कर दिया जाना चाहिए । उसको मारना उस पर दया करना है । जन्नत ( जहां हूरे और अन्य सभी प्रकार की विलासिता सामग्री है ) पाने का निश्चित तरीका गैर ईमान वालों को मारना है । इस्लाम द्वारा किया गया रक्तपात इसी विश्वास के कारण हुआ है ।

              कम्प्लीट वर्क आफ विवेकानन्द वॉल्यूम २ पृष्ठ २५२-२५३

2.  गुरु नानक देव

मुसलमान सैय्यद , शेख , मुगल पठान आदि सभी बहुत निर्दयी हो गए हैं । जो लोग मुसलमान नहीं बनते थें उनके शरीर में कीलें ठोककर एवं कुत्तों से नुचवाकर मरवा दिया जाता था ।

            - नानक प्रकाश तथा प्रेमनाथ जोशी की पुस्तक पैन इस्लाममिज्म रोलिंग बैंक पृष्ठ ७0

3. महर्षि दयानन्द सरस्वती

इस मजहब में अल्लाह और रसूल के वास्ते संसार को लुटवाना और लूट के माल में खुदा को हिस्सेदार बनाना शबाब का काम हैं । जो मुसलमान नहीं बनते उन लोगों को मारना और बदले में बहिश्त को पाना आदि पक्षपात की बातें ईश्वर की नहीं हो सकती । श्रेष्ठ गैर मुसलमानों से शत्रुता और दुष्ट मुसलमानों से मित्रता , जन्नत में अनेक औरतों और लौंडे होना आदि निन्दित उपदेश कुएं में डालने योग्य हैं । अनेक स्त्रियों को रखने वाले मुहम्मद साहब निर्दयी , राक्षस व विषयासक्त मनुष्य थें , एवं इस्लाम से अधिक अशांति फैलाने वाला दुष्ट मत दसरा और कोई नहीं । इस्लाम मत की मुख्य पुस्तक कुरान पर हमारा यह लेख हठ , दुराग्रह , ईर्ष्या विवाद और विरोध घटाने के लिए लिखा गया , न कि इसको बढ़ाने के लिए । सब सज्जनों के सामन रखने का उद्देश्य अच्छाई को ग्रहण करना और बुराई को त्यागना है ।।

                             -सत्यार्थ प्रकाश १४ वां समुल्लास विक्रमी २०६१

  4. महर्षि अरविन्द

हिन्दू मुस्लिम एकता असम्भव है क्योंकि मुस्लिम कुरान मत हिन्दू को मित्र रूप में सहन नहीं करता । हिन्दू मुस्लिम एकता का अर्थ हिन्दुओं की गुलामी नहीं होना चाहिए । इस सच्चाई की उपेक्षा करने से लाभ नहीं ।किसी दिन हिन्दुओं को मुसलमानों से लड़ने हेतु तैयार होना चाहिए । हम भ्रमित न हों और समस्या के हल से पलायन न करें । हिन्दू मुस्लिम समस्या का हल अंग्रेजों के जाने से पहले सोच लेना चाहिए अन्यथा गृहयुद्ध के खतरे की सम्भावना है । ।
                             - ए बी पुरानी इवनिंग टाक्स विद अरविन्द पृष्ठ २९१-२८९-६६६

 
 
 5.  सरदार वल्लभ भाई पटेल

मैं अब देखता हूं कि उन्हीं युक्तियों को यहां फिर अपनाया जा रहा है जिसके कारण देश का विभाजन हुआ था । मुसलमानों की पृथक बस्तियां बसाई जा रहीं हैं । मुस्लिम लीग के प्रवक्ताओं की वाणी में भरपूर विष है । मुसलमानों को अपनी प्रवृत्ति में परिवर्तन करना चाहिए । मुसलमानों को अपनी मनचाही वस्तु पाकिस्तान मिल गया हैं वे ही पाकिस्तान के लिए उत्तरदायी हैं , क्योंकि मुसलमान देश के विभाजन के अगुआ थे न कि पाकिस्तान के वासी । जिन लोगों ने मजहब के नाम पर विशेष सुविधांए चाहिंए वे पाकिस्तान चले जाएं इसीलिए उसका निर्माण हुआ है । वे मुसलमान लोग पुनः फूट के बीज बोना चाहते हैं । हम नहीं चाहते कि देश का पुनः विभाजन हो ।
                             - संविधान सभा में दिए गए भाषण का सार
 
  6. बाबा साहब भीम राव अंबेडकर

हिन्दू मुस्लिम एकता एक अंसभव कार्य हैं भारत से समस्त मुसलमानों को पाकिस्तान भेजना और हिन्दुओं को वहां से बुलाना ही एक हल है । यदि यूनान तुर्की और बुल्गारिया जैसे कम साधनों वाले छोटे छोटे देश यह कर सकते हैं तो हमारे लिए कोई कठिनाई नहीं । साम्प्रदायिक शांति हेतु अदला बदली के इस महत्वपूर्ण कार्य को न अपनाना अत्यंत उपहासास्पद होगा । विभाजन के बाद भी भारत में साम्प्रदायिक समस्या बनी रहेगी । पाकिस्तान में रुके हुए अल्पसंख्यक हिन्दुओं की सुरक्षा कैसे होगी ? मुसलमानों के लिए हिन्दू काफिर सम्मान के योग्य नहीं है । मुसलमान की भातृ भावना केवल मुसमलमानों के लिए है । कुरान गैर मुसलमानों को मित्र बनाने का विरोधी है , इसीलिए हिन्दू सिर्फ घृणा और शत्रुता के योग्य है । मुसलामनों के निष्ठा भी केवल मुस्लिम देश के प्रति होती है । इस्लाम सच्चे मुसलमानो हेतु भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट संबधी मानने की आज्ञा नहीं देता । संभवतः यही कारण था कि मौलाना मौहम्मद अली जैसे भारतीय मुसलमान भी अपेन शरीर को भारत की अपेक्षा येरूसलम में दफनाना अधिक पसन्द किया । कांग्रेस में मुसलमानों की स्थिति एक साम्प्रदायिक चौकी जैसी है । गुण्डागर्दी मुस्लिम राजनीति का एक स्थापित तरीका हो गया है । इस्लामी कानून समान सुधार के विरोधी हैं । धर्म निरपेक्षता को नहीं मानते।

मुस्लिम कानूनों के अनुसार भारत हिन्दुओं और मुसलमानों की समान मातृभूमि नहीं हो सकती । वे भारत जैसे गैर मुस्लिम देश को इस्लामिक देश बनाने में जिहाद आतंकवाद का संकोच नहीं करते ।
                            - प्रमाण सार डा अंबेडकर सम्पूर्ण वाग्मय , खण्ड १५१

  7. माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर श्री गुरू जी

पाकिस्तान बनने के पश्चात जो मुसलमान भारत में रह गए हैं क्या उनकी हिन्दुओं के प्रति शत्रुता , उनकी हत्या , लूट दंगे, आगजनी , बलात्कार , आदि पुरानी मानसिकता बदल गयी है , ऐसा विश्वास करना आत्मघाती होगा । पाकिस्तान बनने के पश्चात हिन्दुओं के प्रति मुस्लिम खतरा सैकड़ों गुणा बढ़ गया है । पाकिस्तान और बांग्लादेश से घुसपैठ बढ़ रही है । दिल्ली से लेकर रामपुर और लखनउ तक मुसलमान खतरनाक हथियारों की जमाखोरी कर रहे हैं । ताकि पाकिस्तान द्वारा भारत पर आक्रमण करने पर वे अपने भाइयों की सहायता कर सके । अनेक भारतीय मुसलमान ट्रांसमीटर के द्वारा पाकिस्तान के साथ लगातार सम्पर्क में हैं । सरकारी पदों पर आसीन मुसलमान भी राष्ट्र विरोधी गोष्ठियों में भाषण देते हें । यदि यहां उनके हितों को सुरक्षित नहीं रखा गया तो वे सशस्त्र क्रांति के खड़े होंगें ।

 8. गुरूदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर

ईसाई व मुसलमान मत अन्य सभी को समाप्त करने हेतु कटिबद्ध हैं । उनका उद्देश्य केवल अपने मत पर चलना नहीं है अपितु मानव धर्म को नष्ट करना है । वे अपनी राष्ट्र भक्ति गैर मुस्लिम देश के प्रति नहीं रख सकते । वे संसार के किसी भी मुस्लिम एवं मुस्लिम देश के प्रति तो वफादार हो सकते हैं परन्तु किसी अन्य हिन्दू या हिन्दू देश के प्रति नहीं । सम्भवतः मुसलमान और हिन्दू कुछ समय के लिए एक दूसरे के प्रति बनवटी मित्रता तो स्थापित कर सकते हैं परन्तु स्थायी मित्रता नहीं । ;                     
                    - रवीन्द्र नाथ वाडमय २४ वां खण्ड पृच्च्ठ २७५ , टाइम्स आफ इंडिया १७-०४-१९२७ , कालान्तर

 9. लाला लाजपत राय
मुस्लिम कानून और मुस्लिम इतिहास को पढ़ने के पश्चात मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि उनका मजहब उनके अच्छे मार्ग में एक रुकावट है । मुसलमान जनतांत्रिक आधार पर हिन्दुस्तान पर शासन चलाने हेतु हिन्दुओं के साथ एक नहीं हो सकते । क्या कोई मुसलमान कुरान के विपरीत जा सकता है ? हिन्दुओं के विरूद्ध कुरान और हदीस की निषेधाज्ञा की क्या हमें एक होने देगी ? मुझे डर है कि हिन्दुस्तान के ७ करोड़ मुसलमान अफगानिस्तान , मध्य एशिया अरब , मैसोपोटामिया और तुर्की के हथियारबंद गिरोह मिलकर अप्रत्याशित स्थिति पैदा कर देंगें ।

                             पत्र सी आर दास बी एस ए वाडमय खण्ड १५ पृष्ठ २७५

  10. समर्थ गुरू राम दास जी

छत्रपति शिवाजी महाराज के गुरू अपने ग्रंथ दास बोध में लिखते हैं कि मुसलमान शासकों द्वारा कुरान के अनुसार काफिर हिन्दू नारियों से बलात्कार किए गए जिससे दुःखी होकर अनेकों ने आत्महत्या कर ली । मुसलमान न बनने पर अनेक कत्ल किए एवं अगणित बच्चे अपने मां बाप को देखकर रोते रहे । मुसलमान आक्रमणकारी पशुओं के समान निर्दयी थे , उन्होंने धर्म परिवर्तन न करने वालों को जिन्दा ही धरती में दबा दिया ।

                            - डा एस डी कुलकर्णी कृत एन्कांउटर विद इस्लाम पृष्ठ २६७-२६८

 10. राजा राममोहन राय

मुसलमानों ने यह मान रखा है कि कुरान की आयतें अल्लाह का हुक्म हैं । और कुरान पर विश्वास न करने वालों का कत्ल करना उचित है । इसी कारण मुसलमानों ने हिन्दुओं पर अत्यधिक अत्याचार किए , उनका वध किया , लूटा व उन्हें गुलाम बनाया ।

                             वाङ्मय-राजा राममोहन राय पृष्ट ७२६-७२७

 11. श्रीमति ऐनी बेसेन्ट

मुसलमानों के दिल में गैर मुसलमानों के विरूद्ध नंगी और बेशर्मी की हद तक तक नफरत हैं । हमने मुसलमान नेताओं को यह कहते हुए सुना है कि यदि अफगान भारत पर हमला करें तो वे मसलमानों की रक्षा और हिन्दुओं की हत्या करेंगे । मुसलमानों की पहली वफादार मुस्लिम देशों के प्रति हैं , हमारी मातृभूमि के लिए नहीं । यह भी ज्ञात हुआ है कि उनकी इच्छा अंग्रेजों के पश्चात यहां अल्लाह का साम्राज्य स्थापित करने की है न कि सारे संसार के स्वामी व प्रेमी परमात्मा का का । स्वाधीन भारत के बारे में सोचते समय हमें मुस्लिम शासन के अंत के बारे में विचार करना होगा ।

                             - कलकत्ता सेशन १९१७ डा बी एस ए सम्पूर्ण वाङ्मय खण्ड, पृष्ठ २७२-२७५

  12. स्वामी रामतीर्थ

अज्ञानी मुसलमानों का दिल ईश्वरीय प्रेम और मानवीय भाईचारे की शिक्षा के स्थान पर नफरत , अलगाववाद , पक्षपात और हिंसा से कूट कूट कर भरा है । मुसलमानों द्वारा लिखे गए इतिहास से इन तथ्यों की पुष्टि होती है । गैर मुसलमानों आर्य खालसा हिन्दुओं की बढ़ी संख्या में काफिर कहकर संहार किया गया । लाखों असहाय स्त्रियों को बिछौना बनाया गया । उनसे इस्लाम के रक्षकों ने अपनी काम पिपासा को शान्त किया । उनके घरों को छीना गया और हजारों हिन्दुओं को गुलाम बनाया गया । क्या यही है शांति का मजहब इस्लाम ? कुछ एक उदाहरणों को छोड़कर अधिकांश मुसलमानों ने गैरों को काफिर माना है ।

                             - भारतीय महापुरूषों की दृष्टि में इस्लाम पृष्ठ ३५-३६

कैसे कहें हम हिन्दू मुस्लिम भाई भाई????

संछेप में...इस्लाम के प्रति महापुरुषों के विचार।।

 1. स्वामी विवेकानंद

 ऎसा कोई अन्य मजहब नहीं जिसने इतना अधिक रक्तपात किया हो और अन्य के लिए इतना क्रूर हो । इनके अनुसार जो कुरान को नहीं मानता कत्ल कर दिया जाना चाहिए । उसको मारना उस पर दया करना है । जन्नत ( जहां हूरे और अन्य सभी प्रकार की विलासिता सामग्री है ) पाने का निश्चित तरीका गैर ईमान वालों को मारना है । इस्लाम द्वारा किया गया रक्तपात इसी विश्वास के कारण हुआ है ।

              कम्प्लीट वर्क आफ विवेकानन्द वॉल्यूम २ पृष्ठ २५२-२५३

2.  गुरु नानक देव

मुसलमान सैय्यद , शेख , मुगल पठान आदि सभी बहुत निर्दयी हो गए हैं । जो लोग मुसलमान नहीं बनते थें उनके शरीर में कीलें ठोककर एवं कुत्तों से नुचवाकर मरवा दिया जाता था ।

            - नानक प्रकाश तथा प्रेमनाथ जोशी की पुस्तक पैन इस्लाममिज्म रोलिंग बैंक पृष्ठ ७0

3. महर्षि दयानन्द सरस्वती

इस मजहब में अल्लाह और रसूल के वास्ते संसार को लुटवाना और लूट के माल में खुदा को हिस्सेदार बनाना शबाब का काम हैं । जो मुसलमान नहीं बनते उन लोगों को मारना और बदले में बहिश्त को पाना आदि पक्षपात की बातें ईश्वर की नहीं हो सकती । श्रेष्ठ गैर मुसलमानों से शत्रुता और दुष्ट मुसलमानों से मित्रता , जन्नत में अनेक औरतों और लौंडे होना आदि निन्दित उपदेश कुएं में डालने योग्य हैं । अनेक स्त्रियों को रखने वाले मुहम्मद साहब निर्दयी , राक्षस व विषयासक्त मनुष्य थें , एवं इस्लाम से अधिक अशांति फैलाने वाला दुष्ट मत दसरा और कोई नहीं । इस्लाम मत की मुख्य पुस्तक कुरान पर हमारा यह लेख हठ , दुराग्रह , ईर्ष्या विवाद और विरोध घटाने के लिए लिखा गया , न कि इसको बढ़ाने के लिए । सब सज्जनों के सामन रखने का उद्देश्य अच्छाई को ग्रहण करना और बुराई को त्यागना है ।।

                             -सत्यार्थ प्रकाश १४ वां समुल्लास विक्रमी २०६१

  4. महर्षि अरविन्द

हिन्दू मुस्लिम एकता असम्भव है क्योंकि मुस्लिम कुरान मत हिन्दू को मित्र रूप में सहन नहीं करता । हिन्दू मुस्लिम एकता का अर्थ हिन्दुओं की गुलामी नहीं होना चाहिए । इस सच्चाई की उपेक्षा करने से लाभ नहीं ।किसी दिन हिन्दुओं को मुसलमानों से लड़ने हेतु तैयार होना चाहिए । हम भ्रमित न हों और समस्या के हल से पलायन न करें । हिन्दू मुस्लिम समस्या का हल अंग्रेजों के जाने से पहले सोच लेना चाहिए अन्यथा गृहयुद्ध के खतरे की सम्भावना है । ।
                             - ए बी पुरानी इवनिंग टाक्स विद अरविन्द पृष्ठ २९१-२८९-६६६

 
 
 5.  सरदार वल्लभ भाई पटेल

मैं अब देखता हूं कि उन्हीं युक्तियों को यहां फिर अपनाया जा रहा है जिसके कारण देश का विभाजन हुआ था । मुसलमानों की पृथक बस्तियां बसाई जा रहीं हैं । मुस्लिम लीग के प्रवक्ताओं की वाणी में भरपूर विष है । मुसलमानों को अपनी प्रवृत्ति में परिवर्तन करना चाहिए । मुसलमानों को अपनी मनचाही वस्तु पाकिस्तान मिल गया हैं वे ही पाकिस्तान के लिए उत्तरदायी हैं , क्योंकि मुसलमान देश के विभाजन के अगुआ थे न कि पाकिस्तान के वासी । जिन लोगों ने मजहब के नाम पर विशेष सुविधांए चाहिंए वे पाकिस्तान चले जाएं इसीलिए उसका निर्माण हुआ है । वे मुसलमान लोग पुनः फूट के बीज बोना चाहते हैं । हम नहीं चाहते कि देश का पुनः विभाजन हो ।
                             - संविधान सभा में दिए गए भाषण का सार
 
  6. बाबा साहब भीम राव अंबेडकर

हिन्दू मुस्लिम एकता एक अंसभव कार्य हैं भारत से समस्त मुसलमानों को पाकिस्तान भेजना और हिन्दुओं को वहां से बुलाना ही एक हल है । यदि यूनान तुर्की और बुल्गारिया जैसे कम साधनों वाले छोटे छोटे देश यह कर सकते हैं तो हमारे लिए कोई कठिनाई नहीं । साम्प्रदायिक शांति हेतु अदला बदली के इस महत्वपूर्ण कार्य को न अपनाना अत्यंत उपहासास्पद होगा । विभाजन के बाद भी भारत में साम्प्रदायिक समस्या बनी रहेगी । पाकिस्तान में रुके हुए अल्पसंख्यक हिन्दुओं की सुरक्षा कैसे होगी ? मुसलमानों के लिए हिन्दू काफिर सम्मान के योग्य नहीं है । मुसलमान की भातृ भावना केवल मुसमलमानों के लिए है । कुरान गैर मुसलमानों को मित्र बनाने का विरोधी है , इसीलिए हिन्दू सिर्फ घृणा और शत्रुता के योग्य है । मुसलामनों के निष्ठा भी केवल मुस्लिम देश के प्रति होती है । इस्लाम सच्चे मुसलमानो हेतु भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट संबधी मानने की आज्ञा नहीं देता । संभवतः यही कारण था कि मौलाना मौहम्मद अली जैसे भारतीय मुसलमान भी अपेन शरीर को भारत की अपेक्षा येरूसलम में दफनाना अधिक पसन्द किया । कांग्रेस में मुसलमानों की स्थिति एक साम्प्रदायिक चौकी जैसी है । गुण्डागर्दी मुस्लिम राजनीति का एक स्थापित तरीका हो गया है । इस्लामी कानून समान सुधार के विरोधी हैं । धर्म निरपेक्षता को नहीं मानते।

मुस्लिम कानूनों के अनुसार भारत हिन्दुओं और मुसलमानों की समान मातृभूमि नहीं हो सकती । वे भारत जैसे गैर मुस्लिम देश को इस्लामिक देश बनाने में जिहाद आतंकवाद का संकोच नहीं करते ।
                            - प्रमाण सार डा अंबेडकर सम्पूर्ण वाग्मय , खण्ड १५१

  7. माधवराव सदाशिवराव गोलवलकर श्री गुरू जी

पाकिस्तान बनने के पश्चात जो मुसलमान भारत में रह गए हैं क्या उनकी हिन्दुओं के प्रति शत्रुता , उनकी हत्या , लूट दंगे, आगजनी , बलात्कार , आदि पुरानी मानसिकता बदल गयी है , ऐसा विश्वास करना आत्मघाती होगा । पाकिस्तान बनने के पश्चात हिन्दुओं के प्रति मुस्लिम खतरा सैकड़ों गुणा बढ़ गया है । पाकिस्तान और बांग्लादेश से घुसपैठ बढ़ रही है । दिल्ली से लेकर रामपुर और लखनउ तक मुसलमान खतरनाक हथियारों की जमाखोरी कर रहे हैं । ताकि पाकिस्तान द्वारा भारत पर आक्रमण करने पर वे अपने भाइयों की सहायता कर सके । अनेक भारतीय मुसलमान ट्रांसमीटर के द्वारा पाकिस्तान के साथ लगातार सम्पर्क में हैं । सरकारी पदों पर आसीन मुसलमान भी राष्ट्र विरोधी गोष्ठियों में भाषण देते हें । यदि यहां उनके हितों को सुरक्षित नहीं रखा गया तो वे सशस्त्र क्रांति के खड़े होंगें ।

 8. गुरूदेव रवीन्द्र नाथ टैगोर

ईसाई व मुसलमान मत अन्य सभी को समाप्त करने हेतु कटिबद्ध हैं । उनका उद्देश्य केवल अपने मत पर चलना नहीं है अपितु मानव धर्म को नष्ट करना है । वे अपनी राष्ट्र भक्ति गैर मुस्लिम देश के प्रति नहीं रख सकते । वे संसार के किसी भी मुस्लिम एवं मुस्लिम देश के प्रति तो वफादार हो सकते हैं परन्तु किसी अन्य हिन्दू या हिन्दू देश के प्रति नहीं । सम्भवतः मुसलमान और हिन्दू कुछ समय के लिए एक दूसरे के प्रति बनवटी मित्रता तो स्थापित कर सकते हैं परन्तु स्थायी मित्रता नहीं । ;                     
                    - रवीन्द्र नाथ वाडमय २४ वां खण्ड पृच्च्ठ २७५ , टाइम्स आफ इंडिया १७-०४-१९२७ , कालान्तर

 9. लाला लाजपत राय
मुस्लिम कानून और मुस्लिम इतिहास को पढ़ने के पश्चात मैं इस निष्कर्ष पर पहुंचा हूं कि उनका मजहब उनके अच्छे मार्ग में एक रुकावट है । मुसलमान जनतांत्रिक आधार पर हिन्दुस्तान पर शासन चलाने हेतु हिन्दुओं के साथ एक नहीं हो सकते । क्या कोई मुसलमान कुरान के विपरीत जा सकता है ? हिन्दुओं के विरूद्ध कुरान और हदीस की निषेधाज्ञा की क्या हमें एक होने देगी ? मुझे डर है कि हिन्दुस्तान के ७ करोड़ मुसलमान अफगानिस्तान , मध्य एशिया अरब , मैसोपोटामिया और तुर्की के हथियारबंद गिरोह मिलकर अप्रत्याशित स्थिति पैदा कर देंगें ।

                             पत्र सी आर दास बी एस ए वाडमय खण्ड १५ पृष्ठ २७५

  10. समर्थ गुरू राम दास जी

छत्रपति शिवाजी महाराज के गुरू अपने ग्रंथ दास बोध में लिखते हैं कि मुसलमान शासकों द्वारा कुरान के अनुसार काफिर हिन्दू नारियों से बलात्कार किए गए जिससे दुःखी होकर अनेकों ने आत्महत्या कर ली । मुसलमान न बनने पर अनेक कत्ल किए एवं अगणित बच्चे अपने मां बाप को देखकर रोते रहे । मुसलमान आक्रमणकारी पशुओं के समान निर्दयी थे , उन्होंने धर्म परिवर्तन न करने वालों को जिन्दा ही धरती में दबा दिया ।

                            - डा एस डी कुलकर्णी कृत एन्कांउटर विद इस्लाम पृष्ठ २६७-२६८

 10. राजा राममोहन राय

मुसलमानों ने यह मान रखा है कि कुरान की आयतें अल्लाह का हुक्म हैं । और कुरान पर विश्वास न करने वालों का कत्ल करना उचित है । इसी कारण मुसलमानों ने हिन्दुओं पर अत्यधिक अत्याचार किए , उनका वध किया , लूटा व उन्हें गुलाम बनाया ।

                             वाङ्मय-राजा राममोहन राय पृष्ट ७२६-७२७

 11. श्रीमति ऐनी बेसेन्ट

मुसलमानों के दिल में गैर मुसलमानों के विरूद्ध नंगी और बेशर्मी की हद तक तक नफरत हैं । हमने मुसलमान नेताओं को यह कहते हुए सुना है कि यदि अफगान भारत पर हमला करें तो वे मसलमानों की रक्षा और हिन्दुओं की हत्या करेंगे । मुसलमानों की पहली वफादार मुस्लिम देशों के प्रति हैं , हमारी मातृभूमि के लिए नहीं । यह भी ज्ञात हुआ है कि उनकी इच्छा अंग्रेजों के पश्चात यहां अल्लाह का साम्राज्य स्थापित करने की है न कि सारे संसार के स्वामी व प्रेमी परमात्मा का का । स्वाधीन भारत के बारे में सोचते समय हमें मुस्लिम शासन के अंत के बारे में विचार करना होगा ।

                             - कलकत्ता सेशन १९१७ डा बी एस ए सम्पूर्ण वाङ्मय खण्ड, पृष्ठ २७२-२७५

  12. स्वामी रामतीर्थ

अज्ञानी मुसलमानों का दिल ईश्वरीय प्रेम और मानवीय भाईचारे की शिक्षा के स्थान पर नफरत , अलगाववाद , पक्षपात और हिंसा से कूट कूट कर भरा है । मुसलमानों द्वारा लिखे गए इतिहास से इन तथ्यों की पुष्टि होती है । गैर मुसलमानों आर्य खालसा हिन्दुओं की बढ़ी संख्या में काफिर कहकर संहार किया गया । लाखों असहाय स्त्रियों को बिछौना बनाया गया । उनसे इस्लाम के रक्षकों ने अपनी काम पिपासा को शान्त किया । उनके घरों को छीना गया और हजारों हिन्दुओं को गुलाम बनाया गया । क्या यही है शांति का मजहब इस्लाम ? कुछ एक उदाहरणों को छोड़कर अधिकांश मुसलमानों ने गैरों को काफिर माना है ।

                             - भारतीय महापुरूषों की दृष्टि में इस्लाम पृष्ठ ३५-३६

कैसे कहें हम हिन्दू मुस्लिम भाई भाई????

Metal Scrap Dubai.5 - 50 laks/month.No Learning.Start Business directly....







Title :
Metal Scrap dubai.5-50
laks/month.No Learning.Start Business directly.full package.+919810890743

No classes,
No training, No workshops, no timewasting . Leave these problems to us.
Start
Business directly from our Associate office in Dubai. China and USA
We are
already doing this business. Big Scope, buy directly from our Dubai, china, Usa
offices.
You can
start from next week.
Contact us
in Delhi.
Startup
India Academy
Vivek Vihar,
Delhi
India
Watsapp and
phone : +91 98108 90743
We do not
want you to learn anything, because if you learn, you will be over confident,
and can do fatal mistake, loosing your entire money.
Instead take
our help.
Price of
help and procedure are on the following page of our website in Hindi and
English.
Summary :
A. Project :
To do
Business of Import and Export for fast track profit, with the help of our
experience from Dubai, Germany, Europe, Russia, South Africa, Usa etc.
What metal
scrap you can do :
Iron, steel,
aluminum, copper, brass, lead, zink etc.
B. What Help
from Us :
1. Knowledge
about scrap quality
2. Our
offices in Dubai, China, USA load the scrap for you in your presence.
3. We do all
, Negotiations, Quality check, Loading, Export  Documentation, Shipping and safe dispatch.
4. On
reaching India,we take care of shipment from customs, duty, gst, selling,
Pollution certificate, selling to furnaces in india, Bank payments, reorder
etc.
c. Profit:
About 5
lacks to 50 lacks on the investment of 25 lacks to 250 lacks.
d. Gestation
Period:
You can
start the business in one week time.
E. Growth of
Business :
You can
increase the business upto 20 crore per month. 
And then we manage to bring out Public Issue (IPO) of your Company.
+++++
But it is
good to know our company and our mentor Mr Ashok Gupta Kinkar from our website.
+++
Other Services
offered by us :
1.  We help you to do open your offices in Dubai,
China, USA and get you Green Card for the family .
2. Plan any
other business other then metal scrap, from out offices abroad, from our rich
experience of more then 40 years in different countries.
+++
प्रिय मित्रों मैं समझता
हूं कि अगर
आप इस वीडियो
को देख रहे
हैं तो आप
इंपोर्ट एक्सपोर्ट करना चाहते
हैं
तो इसमें मेरी सलाह
यह है कि
आप इन पूरी  वीडियो
को देख लीजिए
जितनी भी यूट्यूब
पर अवेलेबल हैं
और उसके बाद
यदि आपका मन
इंपोर्ट एक्सपोर्ट का बिजनेस
में जाने का
हो तो एगजैक्टली
कैसे करना है
, this know from us.
कोई छोटी सी
भयानक गलती ना
हो जाए सबसे
अच्छा बिजनेस नुकसान
दे ना हो
जाए इसके लिए
आप हमारे expert
 मैनेजर
उसकी टीम और
हमारे विदेशों में
बने एसोसिएट ऑफिस  की
हेल्प ले सकते
हैं
जैसे प्रॉपर्टी का एक
बहुत अच्छा सौदा
आपने कर दिया
मगर पेपर्स में
जरा सी गड़बड़ी
हो गई तो
आप प्रॉपर्टी से
हाथ धो बैठेंगे
हर बिजनेस की तरह
इसमें भी बड़े-बड़े फ्रॉड
लोग बैठे हैं
आपको किसी देश
में सोना 50 परसेंट
सस्ता मिल रहा
है मगर आप
डील सही नहीं
कर पाए तो
आप मूलधन भी
गंवा बैठेंगे
इसी प्रकार तरीका मालूम
होने से पांच
परसेंट प्रॉफिट से भी
आप महीने में
20 डील करके पैसा
डबल कर सकते
हैं
आपके पास कोई
अच्छी आइटम अच्छा
कंट्री , अच्छा विचार है
तो हम उस
विचार को प्रैक्टिकल
कराएंगे
और अगर विचार
नहीं है तो
हम आइटम कंट्री
ग्राहक सप्लायर डॉक्यूमेंटेशन गवर्नमेंट
कस्टम ड्यूटी सब
करेंगे और आप
बहुत प्रॉफिट कमा
सकते हैं
हमारा रोल बिजनेस
स्ट्रेटजिस्ट का है
जैसे प्रशांत कुमार
ने मोदी जी
को 2014 का इलेक्शन
जिताया था हमारी
वर्कशॉप होती है
इंडिविजुअल कंसलटेंसी भी दी
जाती है फुल
बिजनेस पैकेज भी है
जहां केवल आप
और हम दोनों
लोग बिजनेस स्टार्ट
कर सकते हैं
+++
Our
Mentor, Coach, Inspiration, Business Guru
Why
you need a Mentor at all ?
Before starting with
us,  this is a good idea to personally
know your Mentor.  Is he Knowledgeable
himself, Experienced, or just has theoretical knowledge only ?

Can he get you started
right away, or he expects all the Home Word to be done from you only.

Our mentor : Shri
Ashok Gupta Kinkar, who has spent 41 years of his life in Imports and Exports
only. Go to his details-Photo Gallery and Video Gallery on you tube.
His last 40 years  experience in Imports and Exports is :
5 years in West Germany :  where he was  doing imports of Handicrafts, Garments,
Jewelry, Paintings, Agarbattis, Pickles when he was 25 years old.
5 years in Dubai :  Gold and Diamond
Jewellery Imports and whole sale.
11 Years in USA :  Gold and Diamond and
Precious stone  Jewellery 
19 Years
:  training of people about imports and
Imports around the world.
Apart from his role of giving training of Imports and exports,
he also trains the society in Indian Heritage, Cultural and Sprituality.
+++
Tags
Scrap,metal,iron,copper,aluminium,brass,zink,lead,Dubai,Uae,gulf,sharjah,Africa,germany,china,delhi,india,usa,import,export,business,training,teaching,workshop,price,quality,negotiation,loading,documentation,shipping,payment,profit,customs,duty,gst,pollution
certificate,furnace,mandigobindgarh,Punjab,gestation,ipo,public issue,ashok
gupta kinkar,greencard,
export
business,event,import export license,how to start,import export course,i e
code,IEC

war is on. Hindus you can not run away from war.

आप युद्ध रत हैं, भाग नहीं सकते।

पिता जी अपने बेटे को कुछ समझाते हुए महाभारत का संदर्भ दे रहे हैैं।

संदर्भ - कश्मीर हो या कैराना। बेटा, संघर्ष से जहाँ तक हो सके,  बचना चाहिए !

महाभारत से पहले कृष्ण भी गए थे दुर्योधन के दरबार में। यह प्रस्ताव लेकर, कि हम युद्ध नहीं चाहते तुम पूरा राज्य रखो, पाँडवों को सिर्फ पाँच गाँव दे दो। वे चैन से रह लेंगे, तुम्हें कुछ नहीं कहेंगे।

बेटे ने पूछा - "पर इतना अनुचित प्रस्ताव लेकर कृष्ण गए क्यों थे ? अगर दुर्योधन स्वीकार कर लेता तो?

पिता :- नहीं करता। कृष्ण को पता था कि वह प्रस्ताव स्वीकार नहीं करेगा। उसके मूल चरित्र के विरुद्ध था।

फिर कृष्ण ऐसा प्रस्ताव लेकर गए ही क्यों थे?

वे तो सिर्फ यह सिद्ध करने गए थे कि दुर्योधन कितना हठी, कितना अन्यायी था। वे पाँडवों को सिर्फ यह दिखाने गए थे,
कि देख लो बेटा... युद्ध तो तुमको लड़ना ही होगा हर हाल में,
अब भी कोई शंका है तो निकाल दो अपने मन से। तुम कितना भी संतोषी हो जाओ, कितना भी चाहो कि घर में चैन से बैठूँ दुर्योधन तुमसे हर हाल में लड़ेगा ही। लड़ना.... या ना लड़ना -
तुम्हारा विकल्प नहीं है।

फिर भी बेचारे अर्जुन को आखिर तक शंका रही कि
सब अपने ही तो बंधु बांधव हैं, कृष्ण ने सत्रह अध्याय तक समझाया, फिर भी शंका थी।

ज्यादा अक्ल वालों को ही ज्यादा शंका होती है ना ! दुर्योधन को कभी शंका नही थी। उसे हमेशा पता था कि उसे युद्ध करना ही है। उसने गणित लगा रखा था।

हिन्दुओं को भी समझ लेना होगा कि:-
कन्फ्लिक्ट होगा या नहीं, यह आपका ऑप्शन नहीं है। आपने तो पाँच गाँव का प्रोपोजल भी देकर देख लिया। देश के दो टुकड़े मंजूर कर लिए, उस में भी हिंदू ही खदेड़ा गया अपनी जमीन जायदाद ज्यों की त्यों छोड़कर।

हर बात पर विशेषाधिकार देकर देख लिया, हज के लिए सबसीडी देकर देख ली, उनके लिए अलग नियम
कानून (धारा 370) बनवा कर देख लिए।

आप चाहे जो कर लीजिए, उनकी माँगें नहीं रुकने वाली।

उन्हें सबसे स्वादिष्ट उसी गौमाता का माँस लगेगा जो आपके लिए पवित्र है, उसके बिना उन्हें भयानक कुपोषण हो रहा है।

उन्हें सबसे प्यारी वही मस्जिदें हैं, जो हजारों साल पुराने आपके ऐतिहासिक मंदिरों को तोड़ कर बनी हैं।

उन्हें सबसे ज्यादा परेशानी उसी आवाज से है जो मंदिरों की घंटियों और पूजा-पंडालों से है।

ये माँगें गाय को काटने तक नहीं रुकेंगी,
यह समस्या मंदिरों तक नहीं रहने वाली,
यह हमारे घर तक आने वाली है...
हमारी बहू-बेटियों तक जाने वाली है

आज का तर्क है:-
तुम्हें गाय इतनी प्यारी है तो सड़कों पर क्यों घूम रही है ?
हम तो काट कर खाएँगे
हमारे मजहब में लिखा है !

कल कहेंगे,
तुम्हारी बेटी की इतनी इज्जत है तो वह अपना खूबसूरत चेहरा ढके बिना घर से निकलती ही क्यों है ? हम तो उठा कर ले जाएँगे।"

उन्हें समस्या गाय से नहीं है,
हमारे "अस्तित्व" से है।

तुम जब तक हो,
उन्हें कुछ ना कुछ प्रॉब्लम रहेगी।

इसलिए हे अर्जुन, और संदेह मत करो, कृष्ण घंटे भर की क्लास बार-बार नहीं लगाते।

25 साल पहले कश्मीरी हिन्दुओं का सब कुछ छिन गया, वे शरणार्थी कैंपों में रहे, पर फिर भी वे आतंकवादी नहीं बने। जबकि कश्मीरी मुस्लिमों को सब कुछ दिया गया, वे फिर भी आतंकवादी बन कर जन्नत को जहन्नुम बना रहे हैं।

पिछले साल की बाढ़ में सेना के जवानों ने जिनकी जानें बचाई, वो आज उन्हीं जवानों को पत्थरों से कुचल डालने पर आमादा हैं।

इसे ही कहते हैं संस्कार !!
ये अंतर है "धर्म" और "मजहब" में..!!

एक जमाना था जब लोग मामूली चोर के जनाजे में शामिल होना भी शर्मिंदगी समझते थे। और एक ये गद्दार और देशद्रोही लोग हैं जो खुले आम... पूरी बेशर्मी से एक आतंकवादी के जनाजे में शामिल हैं..!

सन्देश साफ़ है,,
एक कौम, देश और तमाम दूसरी कौमों के खिलाफ युद्ध छेड़ चुकी है।

अब भी अगर आपको नहीं दिखता है तो यकीनन आप अंधे हैं ! या फिर शत प्रतिशत देश के गद्दार..!!

आज तक हिंदुओं ने किसी को हज पर जाने से नहीं रोका...
लेकिन हमारी अमरनाथ यात्रा हर साल बाधित होती है !
फिर भी हम ही असहिष्णु हैं.....?

ये तो कमाल की धर्मनिरपेक्षता है भाई !!

दुर्योधन का नजरिया साफ था उनका नजरिया भी साफ है।

आप के लिये कृष्ण अलग से नही आयेंगे। आपको क्या करना है यह आप खुद तय करना है।

अभी भी वक्त है संभल जाओ नही तो चौथी पांचवीं पीढ़ी आपके नाम से रोयेगी और उसके साथ होने वाले अत्याचारों के लिए आपको ही दोषी ठहरायेगी। क्योंकि आपने समय रहते सही कदम नहीं उठाये।

7/8 Metal scrap from Dubai UAE Import Export Business.Full Hindi transla...









Video no. 7/8
मेटल स्क्रैप भाग 2
अभी हमारी वीडियो प्रोफेशनली
ठीक नहीं है
मगर आप इसकी
टेक्निकल मैं ना
जा कर यह
देखे कि इसमें
आपको बताया क्या
जा रहा है
मुख्य बात यह
है कि हमारी
जितनी भी वीडियो
हैं वह हम
लोग खुद विदेशों
में जाकर इस
काम को करते
रहे हैं और
हमारे ऑफिस जो
दुबई चाइना और
अमेरिका में है
वहां यह काम
हमारे ऑफिसों द्वारा
किया जाता है
और आपको उन
ऑफिसों की पूरी
सहायता रहती है
हम सिखाते नहीं हैं
हम तो पूरा
काम ही आपको
करा देते हैं
कोई आपको खरीदार
या सप्लायर ढूंढने
की आवश्यकता नहीं
है सारा काम
इंपोर्ट एक्सपोर्ट का हमारे
मैनेजर आपके साथ
खड़े होकर कराते
हैं यह ट्रेनिंग
कोर्स नहीं है
यह बिजनेस को
right  away स्टार्ट करना
है
==
पिछली बार हमने
बात की थी
एक्सपोर्ट इंपोर्ट में हमें
क्या करना चाहिए
हम एक्सपोर्ट भी
कर सकते हैं
इंपोर्ट भी कर
सकते हैं यह
वाली वीडियो इंपोर्ट
के बारे में
 पिछली बार हमने
लिया था कौन
से मेटल कौन
से कंट्री से
आता है और
बिकता है
इस वीडियो में बता
रहे हैं कि
कहां से लेना
है फिर आगे
क्या करना है
देखिए हर कंट्री
से मेटल स्क्रैप
आता है कहां
से चुनना है
यह हमारी अपनी
चॉइस है पार्टी
के साथ बैठकर
हम ही चॉइस
करते हैं
जैसे शादी के
लिए एक प्रकार
की दुल्हन चाहिए
जो हर एक
से उसकी चॉइस
पूछ कर बात
करते हैं
चलिए हम ने
मान लिया दुबई
से मंगाना है
जाने से पहले
इंटरनेट से मालूम
कर लेते हैं
कौन से सप्लायर
हैं उनसे रेट
ले लेते हैं
यूट्यूब पर यही
बात बताई जाती
है क्योंकि हम
बहुत से लोगों
को हम करा
चुके हैं हमारी
रिप्रेजेंटेटिव पार्टी के साथ
दुबई जाते हैं
वहां से इस
काम को कर
आते हैं
हमें मालूम है वहां
कौन से सप्लायर्स
हैं यह मेहनत
आपको करने की
आवश्यकता नहीं पड़ती
है हमें सप्लायर्स
भी मालूम है
वहां के रेट्स
भी मालूम है

दुबई के हम
उनके yards में जाते
हैं माल को
देखते हैं इंडिया
का रेट मालूम
होता है यह
कैसे मालूम चलता
है वह भी
हम बताते हैं
जब रेट
गया तो हमें
पता है कितना
खर्चा लगता है
शिपिंग एक्सपेंसेस क्या है
यह सब हम
कैलकुलेट करके बताते
हैं
 मान लिया
कोई lot 250$ per ton बिक रही
है जाने का
खर्चा $20 per ton  है
तो हमारी जो
टारगेट प्राइस $230 की आई
 हम अपनी
कैलकुलेशन लगाते हैं कितना
सस्ता लेना है
मान लिया मांग
लिया 10 परसेंट का प्रॉफिट
लेना है तो  $25 सस्ता
लेना होगा यह
बात करते हैं
कि क्या रेट
में हमें दे
रहे हैं वहां
नेगोशिएशन करना पड़ता
है yards में हम
आपको लेकर जाते
हैं आपके सामने
नेगोशिएशन करते हैं 
 सारी बातें
youtube पर5 से 10 मिनट में
यह नहीं बताया
जा सकता लेकिन
बेसिक तरीका यह
है कि हमने
अपनी आंखों के
सामने  लोड
कराना है उसके
बाद एक Seal लग
जाती है आपके
सामने लगानी है
उस सील पर
अपना सिग्नेचर कर
सकते हैं जिससे
वह टूटे नहीं
इतनी सावधानी के
साथ वह माल
मुंबई जाता
है मुंबई आने
के बाद शिपिंग
कंपनी जहां भी
आप रहते हैं
वहां माल को
पहुंचा देती है
पंजाब में लुधियाना
मंडी गोविंदगढ़ एक
बहुत अच्छी है  माल
बिकता है भिवाड़ी
में पूरे हिंदुस्तान
में हजारों furnace है

 माल बिकता
है और बहुत
अच्छे ढंग से
बिकता है बहुत
शॉर्टेज है इंडिया
में कस्टम ड्यूटी
वगैरह देकर इस
माल को छुड़ा
लेते

लेकिन हम आपको
ऐसा तरीका बताएंगे
की माल को
छुड़ाने की आवश्यकता
ना पड़े
कस्टम देने की
आवश्यकता पड़े क्योंकि
हमारी फर्निश में
जानकारी है तो
हम आपका उनसे
कांटेक्ट करा देते
हैं तो बिल
आफ लडिंग ही
आप देकर माल
को भेज सकते
हैं


उसमें आप देखेंगे
बिल आफ लडिंग
नेगोशिएबल इंस्ट्रूमेंट उसको वह
देकर पार्टी छोड़
सकती हैं ड्यूटी
वगैरा जीएसटी सब
उसी को देना
होता है एक
बहुत आसान तरीका
है कि आपने
लोड कराया और
हाई सी सेल
कर दिया और
उस पार्टी ने
छुड़ाया ना 
कोई जीएसटी देना पड़ेगा
ना customs देना पड़ा

Customs कोई
प्रॉब्लम नहीं है
लेकिन टाइम लगता
है वह आपका
टाइम भी बच
जाएगा जब तक
आपका माल समुद्र
में है तब
आप उसको भेज
सकते हैं Legally गवर्नमेंट
ऑफ इंडिया का
रेगुलेशन है इंटरनेशनल
रेगुलेशन भी है
आप आराम से
उसको बेच सकते
हैं और अपना
प्रॉफिट ले सकते
हैं
यह माल इंडिया
में गया
और प्रॉफिट के
साथ यह बिक
जाता है कितना
माल बिक जाता
है

इतनी डिमांड ज्यादा है
कि इंडिया इज
लार्जेस्ट इंपोर्टर
क्योंकि बड़ा देश
है

 बहुत अच्छा
पोजीशन है हम
बातों को जो
इस काम को
करना चाहते हैं
हमारे रिप्रेजेंटेटिव उनके
साथ दुबई अफ्रीका
अमेरिका जाते हैं
हमारे इंस्टिट्यूट के
पैकेज में माल
की पहचान करना
जहां से माल
बिक रहा है
वहां से बातचीत
करना माल खरीदना
यह सब पैकेज
में शामिल होता
है आप हमारे
साथ जाते हैं
ऐसा नहीं कि
हम चले गए
और माल हमने
खरीद लिया आप
हमारे साथ जाते
हैं जिससे आपको
सीखने को मिलता
है

जब तक आप
चाहे हम आपके
साथ रहते हैं
उसके बाद स्वयं
आप इस काम
को कर सकते
हैं कोई इतना
मुश्किल काम नहीं
है शुरू में
एक झिझक होती
है वह दूर
हो जाती है
बारीकियां भी होती
हैं कोई गलती
ना हो जाए
इसलिए एक ऐसे
इंस्टिट्यूट की आपको
जरूरत होती है
जो इस काम
को कर चुके
हैं

इनवॉइस कितने प्रकार की
एलसी कितने प्रकार
की यह चीजें
आपको बहुत ही
यूट्यूब में मिल
जाएंगे जो क्लासेज  लगाते
हैं courses कराते हैं वहां
से आपको मिल
जाएगा

 एक्चुअल काम कैसे
करना है वह
हमारे इंस्टिट्यूट में
आपको समझाई जाती
हैं कि किस
तरह से इस
काम को आसानी
से कर सकते
हैं yards में हम
आपको लेकर जाते
हैं आपके सामने
Negotiate करते हैं

 देसी तरीका
है कि हमने
अपनी आंखों के
सामने लोड कर
आया लोड कराना
है उसके बाद
seal लग जाती है
आपके सामने लगानी
है उसी पर
अपना सिग्नेचर कर
सकते हैं जिससे
वो टूटे नहीं

इतनी सावधानी के साथ
माल मुंबई
जाता है मुंबई
आने के बाद
शिपिंग कंपनी जहां भी
आप रहते हैं
वहां माल को
पहुंचा देती है
पंजाब में लुधियाना
मंडी गोविंदगढ़ एक
बहुत अच्छी है
जाएं माल बिकता
है भिवाड़ी में
पूरे हिंदुस्तान में
हजारों furnace फर्नेस  हैं

और अपनी कंपनी
का आईपीओ निकालना
हो तो भी
हमारी इंस्टिट्यूट आपको
पूरी जानकारी भी
देता है और
निकलवा तभी है
आपको कुछ नहीं
करना है केवल
आपको हमारा सहयोग
लेना है यह
सारी जानकारी हमारे
आईपीओ में वर्कशॉप
में दी जाती
है या कंसलटेंसी
में दी जाती
है

 बहुत अच्छा
काम है आज
हमने आपको बताया  किस
तरह से मंगा
सकते हैं और
उसको यहां से
किस तरह से
भेजना है - High Seas Sale "हाय सी
सेल"करना है
कैसे करना है
माल को छुड़ाने
की जरूरत नहीं
इंतजार करने की
जरूरत नहीं कब
पैसे आएंगे

माल लोड होते
ही आप माल
बेच सकते हैं
बहुत आसान चीज
है

हम आसान चीजें
यूट्यूब पर क्यों
बता रहे हैं
क्योंकि हमने बहुत
सी चीजें यूट्यूब
से सीखी हैं

तो हम आपको
यह बता रहे
हैं क्योंकि एक
बेसिक जानकारी हैं
क्योंकि Actual काम करना
है तो आपको
वर्कशॉप लेनी पड़ेगी
क्योंकि उसके बगैर
आप यह काम
नहीं कर सकते
एक्शन में संपर्क
में रहना चाहिए
पैसा इंवॉल्व टाइम
एंड  ,  ट्रायल  एंड
अरर Trial & Error से बहुत
गलतियां होने की
संभावना रहती है  आप
हमारी वेबसाइट देख
सकते हैं या
यूट्यूब से बेसिअवेयरनेस
हो जाती है
तस्वीर आपको पता
लग जाती है

आपका बहुत-बहुत
स्वागत है आप
हमारी वर्कशॉप में
आए नीचे लिखे  फोन
करके (9810890743) हमारे पास
सकते हैं टाइम
ले सकते हैं
किस टाइम आपको
मिलना है बड़ी
खुशी से

आप इस काम
को करने में
डरे नहीं हिचके
नहीं और जी
खोलकर इस काम
को करें

बहुत-बहुत धन्यवाद
आपने इस को
सुना लाइक शेयर
और कमेंट करिएगा
धन्यवाद राधे-राधे

These  video series are primarily for learning imports exports and business
right from scratch to profit earning in real business within very short time.


Introduction of Ashok Gupta Kinkar :
 Mr Ashok Gupta kinkar is an Businessman, now giving talk shows on the art of
imports and exports, because he has already lived and worked  5 years in
Germany ( jewellery handicraft garments agarbatti, brass  flowers pots,
shoes)  and  5 years in Dubai (gold and diamond jewellery spices and
other items) 11 years in USA with office in Manhattan dealing  ( gold,
silver and diamond jewellery , distribution of liquor wine,  bear and real
estate,  among many other businesses.  
Now he is giving workshops and
training to students,  entrepreneurs,  new and old Businessmen who
wish to grow up to public limited level he is also guiding in IPO (Initial
Public Offer) so that they can bring out  their own Public Issue.
How these workshops are different ?
The difference in his coaching/ training and other institutes is, that Mr
kinkar is an experience Businessman himself with 40 year in actual imports and
exports  business with his associate offices  in USA,  China,
 Dubai,  and India.
More information you can get by
Google his name –“ Ashok Gupta kinkar “ – and  going to his website
importexportsbusiness dot kom. Thanks & Regards , Import Export Academy
Delhi Phone : 9810890743
+++++
These  video series are primarily for learning imports exports and business
right from scratch to profit earning in real business within very short time.
 Aim :  to give an insider
view about imports exports and business by the video clips here and you can go
to our website “ importexportsbusiness” dotkom .
Training for job and business :
 import export Academy Delhi,
 holds 1, 3, 8 session workshops  for training.   By
attending these workshops one can get
-  a decent executive job in any import export
company because we do not teach clerical things here,  but train how to
organize a business from scratch thereby giving the company profits in lacs and
crores.
- Useful  for entrepreneurs :
 they can start import and export right after attending  our
workshops.   If you are new in business then you can be well ahead of
old timer importers and exporters because of our latest items and strategies.
 If you are already in imports
exports business then you can add such items where you can increase the profit
multifold.
 - If you want to bring out an
IPO( initial public offer) then we tell you how it is possible,  when your
trusted chartered accountant says it is not possible. 
-  If you want to open a office abroad we give
you direct help through our associate offices in USA China Dubai etc.
-  If you want to settle abroad with family with
a Green Card then we tell you all the ways and means and rules in easy language
and arrange you a legal support to make it easy and fast.
-  Apart from above we help you in many social
cause NGOs and Community help businesses.
-  For this you can come to our website”
importexportsbusiness”  dotkom or call directly our mentor
Detail about the Workshop Schdule, Venue ,
Charges, Course Details, Procedure etc.
·        
One interactive session of about 1.5 hrs + question answers. it
is basically a counseling session telling the scope, requirement , and the
profitability, 6 easy steps to start it  :   with tea, snacks
and study material                                                                                     =
5100
·        
Three interactive sessions with all above and detailed actual
problems and profits in the business  :  with tea, snacks lunch and
study material                                          =
11000
·        
8 interactive sessions divided in two days, in a 5 star location
in city with tea breaks, lunch and study material. This is a complete
information after which you will be full confident of doing it. This is like a
jump start to a new profitable business                                 
 =  25000
Full
consultancy for real business, where our representative accompanies you to
abroad also, stands with you while buying and selling, custom clearance , etc.
cost you 1% of the real turnover + expenses and other terms and conditions will
be explained to you on the basis of business and country you choose.                                               Any
where from 4 to 5,00,000


 For Workshops in USA ,Ask for time
schedule, venue and fee structure.

Rebates  : - in all the above
workshops ,

any accompanying person will get 25 % 
rebate.

if
want to go next level workshop , then you can go to next level and you will get
25 % rebate there also.


you will get free support for next 3 months after the workshops and just by
10 % you can be in touch with us for each quarter.

For programme details Contact Ms Bhawna Sharma Phone : 90131-03952

She will match your time with the workshop time and day and availability.

The Topics taken are :

Topics covered in workshop
·        
Domestic Business good
or  International Business good
·        
What education needed for
becoming an exporter or importer.
·        
Basic requirements for
opening a exim company
·        
What type of company one
should open ?
·        
Basic Requirements for a
import and export company .
·        
How to take a Export
Import Code No. EBA do it free.
·        
Import company Better or
export company, the difference
·        
Selection of product for
Export and Import
·        
Selection of items for
export and import
·        
Selection of country for
export and import
·        
How to find buyers in
other countries
·        
How to find suppliers in
other countries
·        
Export promotion councils
of Government of India
·        
Free sampling to the
Buyers in foreign country
·        
Payment methods , da, dp
cod LC Advance 
·        
Pricing  FG, Fob , C
n f , Cif
·        
Advance Payment care to
be taken
·        
Due Diligence
·        
Fema regulations and how
to comply with them.
·        
Documents required in
Export and  imports
·        
Pollution requirements
·        
Form 9
·        
Making Contract within
Exporter and Importer
·        
Certificate of Origin
·        
Inspection certificate
from International Accredited Agency
·        
High Seas Sales of the
shipments
·        
Custom clearance from
Indian ports
·        
Participating in Trade
fairs abroad
·        
Letter of Credit
·        
Credits in Exports
·        
Business without
Investment
·        
Visa requirement for USA
, China, Dubai and other countries
·        
Green Card and Doing Business
in USA
·        
Open office abroad in USA
, China, Dubai
·        
How to get job in imports
and exports
·        
Special Focus on USA ,
China, Dubai
·        
Business possibilities
other then Imports and Exports
·        
How you can go Public by
Initial Public Offer for your company IPO

Mr Ashok Gupta kinkar
 import export business Academy
Delhi India
phone 9810 890 743
thanks and regard