क्या भगवान परफेक्ट हैं .....!


कुछ दिनों से विचार चल रहा था कि ये संसार अपने आप बन गया क्या , या

इसका कोई बनाने वाला या वाले हैं .

पहले तो अपने आप की संभावना के बारे में कुछ मित्रों से चर्चा की.

तो आस्तिक मित्रों ने कहा कि पगला गए हो क्या , ये तो सब धर्मों में लिखा है कि उसे बनाने वाला कोई है

उस कोई का नाम ही गौड अल्लाह भगवान है

नास्तिक लोग कोई तार्किक उत्तर नहीं दे पाए , आखिर सर्वप्रथम जीवन की शुरुआत कैसे हुई, इसका जबाव ही नहीं है.

डार्विन बिचारे का बन्दर से बंदे का सिधान्त इंडिया के अलावा कहीं मान्य नहीं है .

फिर विकल्प ही क्या रहा .

चलो माना भगवान है ...! तब तो बाबा बरा ग्रेट है , क्या हर चीज सेट बनाई है , चाँद तारे सूरज , निश्चित गर्मी सर्दी , मनुष्य तो क्या एक एक पेर पोधा भी खूबसूरती कि मिसाल . बच्चे के आने के पहले उसके खाने का बंदोबस्त , हर चीज बाबा परफेक्ट बनाई है .

अगर कुछ कमी छोरी है तो मेरी किस्मत में. सबके साथ इन्साफ , मेरे साथ नाइंसाफी ,

क्या करूँ , जब भगवान ही नाइंसाफ हो जाये तो किसको रिपोर्ट करें . ये तो ऐसा ही हुआ कि चोर से ही कानून लिखवाया जाये. या सरकार से ही लोकपाल बिल बनवाया जाये. बरा धर्म संकट है बाबा .

अभी एक अंग्रेजी फिल्म देखि : आइस एज , उसमें डाइलोग था . why should i trust you ?
उत्तर था : because you have no option.

इसी आधार पर मैंने मान लिया कि गाड परफेक्ट है .

अभी कल मुझे बुखार आ गया . डाक्टर के जाते वक्त मैंने बिटिया से मन की भरास कह दी .
सब कहते हैं गाड इज परफेक्ट . आब मेरे बुखार में क्या परफेक्ट है ?

बिटिया बिना सोचे बोली : आपका बुखार एकदम परफेक्ट है , जैसे तुम खाते -पीते, रहते हो , उस तरह से न ये ज़रा ज्यादा है न ज़रा कम .

अब मैं क्या जबाब दूँ , आज तक सोच रहा हूं . और चुपके से अपने भरास परिवार से उम्मीद करता हूं , कोई जबाब सुझाएंगे, चाहे वो मेरे फेवर में हो या विरोध में.






2 comments:

शिखा कौशिक said...

do you know Ashok ji what is the full form of GOD-''GOOD OPINION PERSON''.this is why we believe in GOD because He does every thing for our good .some obstacles can show the path of success .so do not argue over God's works .He is great .

I and god said...

धन्यवाद शिखा जी ,

आपने तो मेरी बिटिया कि साइड ही ली , चलो कोई बात नहीं.

आपकी बात में भी दम है .

पुनश्च धन्यवाद