कितना एहसान फरामोश है एक भारतीय : सोनिया गाँधी भारत की भाग्य विधाता है, देश की प्रथम बहु है , उसके लिए कुछ भी नहीं




इस देश में छोटे से छोटे व्यक्ति के लिए , एक हमदर्दी होती है , कोई खिलाडी बीमार पड़ जाये , कोई अभिनेता बीमार पड़ जाये तो उसके लिए पूजा यज्ञ होने लगते हैं. 


पर इस बार लगता है , सारे देश ने उन्हें भुला दिया ,  


विरोधी तो खुशी मना रहे होंगे, पर कांग्रेस ने भी कोइ पूजा , यज्ञ , हवन , प्रार्थना का विचार तक नहीं किया . 


हद है कृतघ्नता की . 


हम इस ब्लॉग के माध्यम से उनकी लंबी , दीर्घ आयु की प्रार्थना करते हैं. 


मतभेद अपनी जगह हैं , पर मानवता भी कोई चीज़ होती है , 


उन्हें क्या जरुरत है , यहाँ के छोटे किस्म के लोगों के बीच रहने की, 


क्या उन्हें  KGB  ने    CIA  ने ब्लेकमेल किया हुआ है यहाँ राज्य करने के लिए ? 


नहीं  नहीं कदापि नहीं , 


वो केवल अपने पति के देश के प्रेम में यहाँ के लोगों के लांचन झेल रही हैं . 


उस देश की सेवा कर रही हैं , जिसने उनके पति का क़त्ल किया . 


न उनके पास पैसे की कमी है , पुरे मुल्क को कई वर्षों तक अपने पैसे से खिला सकती हैं. 


उनके जाते ही कांग्रेस के नेता ही आपस में लड़ झगड कर खतम हो जायेंगे, 


और छद्म-देश-भक्त-बी जे पी कि बन आएगी , जिसके नेता भूके हैं . कम से कम कांग्रेस के नेताओं के पेट तो भरे हैं . 


भगवान उन्हें दीर्घायु करे , एवं इस देश को बचाये 


  
इंडिया गेट पर आइसक्रीम खाते हुए 

सास बहु और पोते 

देश की चिंता के साथ , चिंता में मगन 

एक नौकरी पेशा को प्रधान मंत्री का रास्ता दिखाया एवं बनाया 

खुश रहो अहले वतन , हम तो इलाज के लिए सफर करते हैं . 
घबराना नहीं, में जल्दी  आकर सब संभल लूंगी .